Home विदर्भ भंडारा जलयुक्त शिवार योजना के माध्यम से लगाया जा रहा चूना

जलयुक्त शिवार योजना के माध्यम से लगाया जा रहा चूना

17
0
SHARE

आमगांव. भूगर्भ जलस्तर में सुधार लाने के उद्देश्य से शुरू की गई जलयुक्त शिवार योजना के माध्यम से सरकार को लाखों रु. का चूना लगाया जा रहा है. यह कार्य कृषि विभाग के अधिकारी व जनप्रतिनिधियों के दबाव में ठेकेदार की मिलीभगत से हो रहा है. जानकारी के अनुसार कृषि विभाग गोंदिया अंतर्गत देवरी उपविभाग में इस येाजना के तहत तालाब दुरुस्ती, सीमेंट बांध दुरुस्ती व सीमेंट कांक्रीट बांध के कार्य चल रहे है. जिसमें भ्रष्टाचार होने की शिकायतें प्राप्त हो रही है.

आमगांव तहसील के ग्राम बोथली में 7-8 वर्ष पूर्व पत्थर, सीमेंट के बांध का निर्माण कृषि विभाग द्वारा किया गया था. लेकिन इसमें पानी नहीं ठहर रहा है. किसानों के अनुसार उक्त बांध की कोई आवश्यकता नहीं थी. इसके बावजूद कृषि विभाग द्वारा इस योजना के तहत प्रस्ताव तैयार किया गया. नाममात्र दुरुस्ती काम कर सरकारी निधि की बंदरबांट की जा रही है. बताया जाता है कि कृषि विभाग के पास कोई टेक्नीकल अधिकारी नहीं है. किसी टेक्नीकल व्यक्ति से इस्टीमेट तैयार करवा कर कृषि अधिकारी ही तकनीकी मंजूरी देकर काम पूरा होने का प्रमाणपत्र देते है.

कृषि विभाग के अधिकारियों को टेक्नीकल अनुभव नहीं होने के कारण ठेकेदार अपनी मनमानी करते हैं. यही हाल कृषि तालाबों का है. तालाबों की गहराई करना तो दूर, तालाबों के अंदर की घास तक नहीं निकाली गई. गोरठा के निवासी इसुलाल भालेकर, रिसामा निवासी महेश मेश्राम व अन्य लोगों ने जिलाधीश डा. कादंबरी बलकवडे से योजना के कार्यों की जांच की मांग की है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here