Home विदर्भ अकोला सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग को लेकर किसान जागर मंच ने निकाला...

सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग को लेकर किसान जागर मंच ने निकाला मोर्चा

45
0
SHARE

पातुर. सरकार द्वारा घोषित सूखाग्रस्त सूची से पातुर तहसील को वंचित रखा गया है. कई बार निवेदन देने के बावजूद इस ओर ध्यान नहीं देने के कारण किसान जागर मंच की ओर से मोर्चा निकाल कर तहसीलदार को निवेदन सौंपा गया. महात्मा फुले स्मारक संभाजी चौक से मोर्चा प्रारंभ होकर विभिन्न मार्गों से होते हुए तहसील कार्यालय पर पहुंचकर तहसीलदार को निवेदन प्रस्तुत किया गया.

कुओं का अनुदान किसानों के खातों में जमा करें
निवेदन में तहसील को शीघ्र सूखाग्रस्त घोषित करने, सभी किसानों को 8 घंटे के लिए बिजली आपूर्ति उपलब्ध कराने , मुद्रा लोन के मामलों का निपटारा करने, फलोद्यान एवं कुओं का अनुदान किसानों के खातों में जमा करने, किसानों को कर्ज से मुक्त करने व नया कर्ज देने, नहर एवं खेत तालाबों का काम पूरा करने, छात्रों को नि:‍शुल्क एसटी बस पास उपलब्ध कराने, जंगली जानवरों से फसलों का नुकसान होने पर प्रति एकड़ 50 हजार रु. अनुदान देने आदि मांगे रखी गयी है. यह मोर्चा प्रशांत गावंडे एवं गजानन हरणे के नेतृत्व में निकाला गया.

निवेदन पर हिदायत खान, अंबादास देवकर, सुरेंद्र उगले, परसराम उंबरकर, दशरथ शेवलकार, उद्धव आवटे, विनोद तायड़े, अन्ना पाटिल, राजाराम येनकर, गजानन बारतासे, ज्ञानदेव अढाव, गजानन उगले, विजय निमकंडे, दिलीप इंगले, मोहन गाड़गे, दिलीप फुलारी, अलका उगले, छाया उगले, शकुंतला बंड, ज्योति फुलारी, नंदा येनकर, सविता उगले, शोभा उगले, रुक्मणी निमकंडे, शुभांगी उगले, अनुसया खड़से, कमला पाटकर, प्रमिला भालतिलक, कमला पाचपोर, सुमत्रिा कोकणे, कासाबाई राठोड़, राधाबाई राठोड़, शेख मुख्तार, सय्यद अकबर, मोहम्मद मेहताब, कयूम शहा, गजानन गाड़गे आदि के दस्तखत हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here