Home विदर्भ यवतमाल 10 थानेदारों समेत API, PSI के तबादले होने की संभावना

10 थानेदारों समेत API, PSI के तबादले होने की संभावना

68
0
SHARE

यवतमाल. वर्ष 2019 में हो रहे लोकसभा चुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग की सिफारिश के तहत जिले के कम से कम 10 थानेदार जिले से बाहर तबादले के लिए पात्र साबित हो रहे हैं. 25 फरवरी से लोकसभा चुनाव में आचार संहिता लागू होने की संभावना है. इसके मद्देनजर माना जा रहा है कि जनवरी में राजस्व तथा पुलिस अधिकारियों के तबादले होंगे. वर्ष 2014 के चुनाव के दौरान एक जिले में तीन वर्ष की सेवा देने वाले अधिकारियों के तबादले किए गए थे. इसके अनुसार जिले के 10 थानेदार तबादले के लिए पात्र साबित होते है. इससे वह जिले से बाहर जा सकते है.

यह जानकारी पुलिस सूत्रों से मिली है. इनमें यवतमाल शहर, घाटंजी, पांढरकवडा, मुकुटबन, उमरखेड, शिरपुर, पाटन, लाडखेड, बिटरगांव, पोफाली के थानेदारों का समावेश हो सकता है. वह विभिन्न पदों पर तीन वर्षों से हैं. इसके अलावा विभिन्न दल तथा पदों पर कार्यरत कई सहायक पुलिस निरीक्षक, पुलिस उपनिरीक्षकों का भी इसमें समावेश हो सकता है. यह तबादले टालने के लिए कुछ थानदारों ने प्रयास किए जा रहे हैं. इन थानेदारों के तबादले होने पर जिले में नए आनेवालों को थानेदार पद का अवसर मिलेगा, किंतु चुनाव आयोग क्या शर्त रखेगा? इस पर ही सब कुछ निर्भर है. इस ओर पुलिस अधिकारियों का ध्यान लगा है. इसमें कुछ बदलाव होने पर कई लोगों को कुछ माह तक जिले में काम करने का अवसर मिलेगा. लोकसभा टालकर विधानसभा में जिले से बाहर जाने के लिए कुछ अधिकारी प्रयास कर रहे हैं. जबकि कुछ विपरित सोच रहे हैं.

SP का भी सूची में हो सकता है समावेश
जिला अधीक्षक का 5 जनवरी 2019 को दो वर्ष का कार्यकाल पूरा हो रहा है. आईपीएस अधिकारियों के लिए जिले में न्यूनतम दो वर्ष की शर्त है. इसके अनुसार एसपी भी आयोग की तबादले की सूची में शामिल हो सकते है. चुनाव के मद्देनजर तबादलों की सूची में यवतमाल के उपविभागीय पुलिस अधिकारी भी समावेश होने की संभावना है. उन्हें दो वर्ष पूरे हो चुके हैं. उमरखेड एसडीपीओ को सवा दो वर्ष पूरे हो चुके है, किंतु इससे पूर्व वह पुलिस निरीक्षक के रूप में जिले में थे. उसे पकड़ा जाए तो उनका भी तबादला जिले से बाहर हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here