Home शहर समाचार पुणे सिंचाई घोटाला : भुजबल ने अजित पवार का समर्थन किया, सरकार पर...

सिंचाई घोटाला : भुजबल ने अजित पवार का समर्थन किया, सरकार पर हमला बोला

41
0
SHARE

पुणे. कई हजार करोड़ रुपये के सिंचाई घोटाले में संलिप्तता के आरोपों का सामना कर रहे पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार के समर्थन में राष्ट्रवादी कांग्रेस (राकां) के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल सामने आए और इसको लेकर महाराष्ट्र की भाजपा नीत सरकार पर हमला बोला. भुजबल ने आरोप लगाया कि सरकार में बैठे लोग विपक्ष के किसी राजनीतिक नेता को पहले ‘फंसाते हैं’ और फिर उसके खिलाफ जांच शुरू करते हैं. उन्होंने कहा बात यह है कि पहले राजनीतज्ञ (सरकार) किसी व्यक्ति (विपक्ष के) को पहले फंसाते हैं और बाद में पुलिस तंत्र के जरिये उसके खिलाफ कार्रवाई शुरू करते हैं. वे (सरकार) पहले यह फैसला करते है कि कार्रवाई के क्या नतीजे होंगे और बाद में जांच शुरू करेंगे. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रावसाहब दानवे ने हाल में कहा था कि कथित सिंचाई घोटाले में राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री पवार को ‘कभी भी’ गिरफ्तार किया जा सकता है. इस पर भुजबल ने कहा कि दानवे ऐसी टिप्पणी कैसे कर सकते हैं जब पुलिस पहले ही कथित घोटाले की जांच कर रही है. 70 वर्षीय राकां नेता ने कहा, ‘ मेरे मामले में भी, कुछ राजनीतिज्ञों ने शोर मचाया और मांग की कि भुजबल को सलाखों के पीछे डालो, और फिर मुझे गिरफ्तार कर लिया गया. भुजबल को करीब 2 साल पहले प्रवर्तन निदेशालय ने धन शोधन मामले में गिरफ्तार किया था. उन्हें इस साल मई में बंबई उच्च न्यायालय ने उनकी उम्र और खराब सेहत की वजह से जमानत दे दी थी. उन्होंने आरोप लगाया सरकार के कुछ मंत्री पहले यह फैसला करते हैं कि विपक्ष में से किस की आवाज को दबाना है और इसके मुताबिक, पुलिस को उस व्यक्ति की आवाज को दबाने के निर्देश दिए जाते हैं. राज्य के भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो ने बंबई उच्च न्यायालय की नागपुर पीठ को सूचित किया कि कथित सिंचाई घोटाले के बाबत उसकी जांच में पवार और अन्य सरकारी अधिकारियों की ओर से बड़ी चूकों का खुलासा हुआ है.यह कथित घोटाला करीब 70,000 करोड़ रुपये का है, जो कांग्रेस-राकांपा सरकार के दौरान महाराष्ट्र में विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं को मंजूरी देने और उन्हें लागू करने में कथित भ्रष्टाचार और अनियमितताओं से संबंधित है. भुजबल ने महाराष्ट्र में सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में मराठा समुदाय को आरक्षण देने की मांग का भी समर्थन किया. राकां नेता सामाजित सुधारक ज्योतिबा फुले की 128 वीं पुण्यतिथि के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम के इतर बात कर रहे थे. पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने इस वर्ष का ‘महात्मा फुले समता अवॉर्ड’ राकां प्रमुख शरद पवार को दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here