Home विदर्भ वर्धा शहर में देर रात तक फूटे पटाखे

शहर में देर रात तक फूटे पटाखे

30
0
SHARE

वर्धा. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद दिवाली पर देर रात तक शहर व जिले में पटाखे फूटे. पुलिस व जिला प्रशासन ने कोर्ट के आदेश पर अमल करने के लिए कोई उपाययोजना नहीं करने की बात सामने आयी. परिणामवश बेखौफ नागरिकों ने रात 12 बजे व उसके बाद भी ध्वनि प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे उड़ाने से शहर तथा जिला धमाको से गुजता रहा.

बता दे कि, बढ़ते ध्वनि व वायू प्रदूषण के चलते पटाखों पर पाबंदी के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. जिस पर कोर्ट ने आदेश जारी करते हुए लक्ष्मीपूजन के दिन रात 8 से 10 बजे तक केवल 2 घंटे ही पटाखे उड़ाने की अनुमति दी थी़ साथ ही इन निर्देशों का उल्लंघन करनेवालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश जारी किए गए थे. इसका अमल करने की जिम्मेदारी पुलिस व प्रशासन को सौंपी गई थी़ किंतु इस संबंध में किसी भी प्रकार का नियोजन न होने से पटाखे उड़ानेवालों पर नियंत्रण लगा पाना मुश्किल दिखाई दिया. लक्ष्मीपूजन के दिन शाम 7 बजे से ही पटाखे फूटने लगे जिससे रात 12 बजे के बाद तक धमाकों की आवाज आती रही.

देर रात तक धमको की रही गूंज
प्रमुख मार्ग से लेकर रिहायसी इलाकों में भी कानून की धज्जियां उड़ती दिखाई दी़ पर्यावरण का संतुलन बनाये रखने के लिए नागरिकों की भी कुछ जिम्मेदारियां होती है़ किंतु त्योहारों के दिनों में वें अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ते नजर आए, वहीं दूसरी ओर पुलिस के वाहन केवल मुख्य मार्ग पर ही भ्रमण करते नजर आए. शहर में सुरक्षा व्यवस्था व मनुष्यबल के अभाव में न्यायालयीन निर्देशों का सख्ती से अमल कर पाना संभव नहीं दिखाई दिया. देर रात तक धमाकेदार आवाज वाले रस्सी बम व अन्य पटाखे से शहर व जिला गूजता रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here