Home विदर्भ यवतमाल बोथबोडन गांव में आत्मक्लेश आंदोलन

बोथबोडन गांव में आत्मक्लेश आंदोलन

13
0
SHARE

यवतमाल. किसान विरोधी सरकार की नीति का निषेध जताकर यवतमाल के सर्वाधिक किसान आत्महत्याग्रस्त बोथबोडन गांव के किसानों आत्मक्लेश आंदोलन कर काली दिवाली मनाई. तहसील के बोथबोडन गांव में अब तक 29 किसानों ने अच्छी फसल न होने एवं कर्ज के बोझ से त्रस्त होकर आत्महत्या की है. राज्यस्तर पर ही नहीं देश के नेताओं ने भी यवतमाल जिले के बोथबोडन गांव में भेंट दी है. लेकिन इनके लिए किसी ने भी किसी तरह की उपाययोजनाओं के कदम नहीं उठाए. भाजपा सरकार ने सत्ता में आने के पूर्व विविध आश्वासन दिए थे, लेकिन कोई भी आश्वासन अब तक पूरे नहीं किए. योजनाएं सिर्फ कागजों पर ही चलाने से किसानों की माली हालत बिकट होती जा रही है. बार-बार अच्छी फसल न होने एवं बढ़ते कर्ज के बोझ से त्रस्त होकर किसान आत्महत्याएं कर रहे है.

काली रंगोली निकालकर किया प्रदर्शन
उल्लेखनीय है कि बैंक द्वारा कर्ज नहीं दिया जाता, खेती उपज को उचित दाम नहीं मिलते, गारंटी मूल्य पर सोयाबीन, कपास आदि की खरीदी भी नहीं की जाती आदि समस्याएं इस आंदोलन के जरिए प्रशासन के सामने रखी. इस दौरान गांव में दीये लगाए, काली पट्टियां एवं काली रंगोली निकालकर किसानों ने आत्मक्लेश आंदोलन किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here