Home विदर्भ यवतमाल गन्ने की फसल को जलता देख किसान पुत्र ने किया आत्महत्या का...

गन्ने की फसल को जलता देख किसान पुत्र ने किया आत्महत्या का प्रयास

37
0
SHARE

नेर. नेर तहसील के मांगलादेवी में शॉर्टसर्किट से 4 एकड़ में खड़ी गन्ने की फसल को आग लग गई. इस आगजनी की घटना में 8 लाख का गन्ना जलकर खाक हो गया. इस दौरान नेर नप दमकल दल घटनास्थल पर 2 घंटे देरी से पहुंचने से यहां पर तनाव निर्माण हो गया था. गन्ने की खड़ी फसल को आग में जलता देख किसान पुत्र ने जहरीली दवा प्राशसन कर आत्महत्या का प्रयास किया. नेर तहसील के मांगलादेवी के किसान रमेश नत्थुजी दहेकार (55) ने अपने 4 एकड़ के खेत में गन्ने की फसल लगाई थी.

उक्त गन्ने की तुडवाई 20 नवंबर से होनेवाली थी. लेकिन बुधवार को गन्ने के उपर से गई बिजली के तारों में स्पार्किंग होने से यहां आग लग गई. इस समय नेर नगर परिषद के दमकल को बुलाया गया, लेकिन खेत तक जाने के लिए रास्ता ठिक नहीं होने से दमकल को पहुंचने में देरी हो गई. जिससे घटनास्थल पर जमी भीड़ संतप्त हो गई थी. जिसके पश्चात राजस्व राज्यमंत्री संजय राठोड को इस घटना की जानकारी दी गई. उनके के आदेश के पश्चात दमकल दल खेत पहुंचा, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी, समूचे खेत में लगी गन्ने की फसल जलकर खाक हो गई.

आगजनी की घटना में गन्ने की फसल जलकर खाक होने से किसान रमेश दहेकार के बेटे सुजित दहेलकर ने खेत में ही जहर गटक लिया. उसे तुरंत नेर उपजिला अस्पताल में ले जाया गया, वहां से यवतमाल के वसंतराव नाईक सरकारी अस्पताल में उसका उपचार जारी है. इस दौरान नेर पुलिस थाने के थानेदार अनिल किनगे, जमादार राजेश चौधरी, प्रदीप खडके हालात पर काबू पा लिया. ऐन दिवाली के दिन हुई इस घटना से मांगलादेवी परिसर में विद्युत मंडल व दमकल दल के खिलाफ रोष व्यक्त किया जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here