Home देश महाराष्ट्र कामत समर्थकों को जोड़ना बड़ी चुनौती, निरुपम की अग्निपरीक्षा

कामत समर्थकों को जोड़ना बड़ी चुनौती, निरुपम की अग्निपरीक्षा

53
0
SHARE

मुंबई. मुंबई कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत के असामायिक निधन से  मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम की मुश्किलें बढ़ गई हैं. बड़ा सवाल यह है कि कामत के निधन के बाद मुंबई कांग्रेस में उपजे शून्य को किस तरह भरा जाएगा. पहले से ही मुंबई कांग्रेस गुटबाजी की शिकार रही है. मुंबई कांग्रेस में देवड़ा व कामत गुट के अलावा उत्तर भारतीय नेताओं का एक अलग खेमा रहा है.  देवड़ा गुट की एक अलग रणनीति रही है. इस गुट के नताओं का बिजनेस से जुड़े लोगों में वर्चस्व है, जबकि कामत की आम लोगों के बीच काफी अच्छी पकड़ थी. कामत कई मुद्दों पर  आक्रामक स्टैंड भी लिया करते थे. कामत की अंतिम यात्रा के दौरान जिस तरह लोगों की भीड़ उमड़ी, उससे साफ़ है कि वे लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थे. निरुपम के सामने बड़ी चुनौती यह है कि वे किस तरह से कामत समर्थक नेताओं व कार्यकर्ताओं को अपने साथ जोड़ते हैं. कामत का निधन ऐसे समय में हुआ जब आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनाव की तैयारियों चल रही हैं.  बड़ा सवाल यह है कि कामत के निधन से जो जगह खाली हुई है, उसकी भरपाई मुंबई कांग्रेस किस तरह से करेगी.

निरुपम की चुनौती

कामत मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम के काम- काज के तरीके से खुश नहीं थे. यही वजह थी कि उन्होंने कांग्रेस के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था. जाहिर है इस बात की नाराजगी कामत समर्थक नेताओं व कार्यकर्ताओं में भी है. ऐसे में कामत समर्थक नेताओं व कार्यकर्ताओं के मन में व्याप्त खटास को दूर कर अपने साथ जोड़ना निरुपम के लिए बड़ी चुनौती बन गई है .

उपेक्षा से थे नाराज

पार्टी के अंदर अपनी उपेक्षा से कामत नाराज चल रहे थे. उनके कार्यकर्ताओं का मानना है कि कामत इस वजह मानसिक दवाब में थे. यह उनकी मौत की एक बड़ी वजह है. जाहिर है इस बात को लेकर कामत समर्थकों में निरुपम को लेकर जबरदस्त नाराजगी है. कांग्रेस के पूर्व नेता राजहंस सिंह ने भी आरोप लगाया था कि निरुपम  की कार्य शैली से कामत खुश नहीं थे . कांग्रेस के पुराने नेता निरुपम को बाहरी मानते हैं.  पूर्व सांसद प्रिया दत्त व कृष्णा हेगड़े ने भी निरुपम के काम करने के तरीके की आलोचना की थी. इन नेताओं का आरोप है कि निरुपम अपने फैसले लेने में उनकी सलाह नहीं लेते हैं.

पोस्टर फाड़ा

कामत समर्थकों की निरुपम से नाराजगी का पता इस बात से भी चलता है कि उन्होंने निरुपम द्वारा कामत की याद में लगाए गए पोस्टर को फाड़ डाला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here